21 Sep 2009

आइये, अपने को ही समझें।

हम दुख को एक द्विअर्थी शब्द की तरह देखें, एक विरोधाभासी शब्द की तरह। आप उसे नकार दें, प्रश्न करें, संदेह करें, कुछ भी करें पर इसका सत्य खोजें। हमें इसका यथार्थ उत्तर खोजना है, सब लोगों द्वारा मिलजुलकर, इसलिए नहीं कि कोई ऐसा कह रहा है। क्या दुख का अंत हो सकता है? हमारा अस्तित्व ही शोकमय हो गया है, कई तरह से हम दुखी होते हैं, किसी अपमान में, किसी की हेय दृष्टि से, किसी की अकड़ से अहंकारपूर्ण मुद्रा से, बचपन में मिले घावों से, हमारे चेतन में गहरे पैठे किसी दुख से, या अचेतन में किसी के दुख से, या किसी को खो देने के दुख से। तो यदि आप गहराई से जाँचें, एक तथ्य की तरह लेकर तो यह है कि हम किसी न किसी तरह...... कभी अभिभावकों से, कभी शिक्षकों से, कभी स्कूल के अन्य छात्रों से, हमेशा ही दुखी होते रहे हैं। ये जख्म गहरे हैं, ढंके हुए हैं, और हम इनके चारों तरफ एक दीवार खड़ी कर देते हैं कि कोई हमें दुख न पहुंचा सके, और यही दीवार भय पैदा करती है।

आप में से कोई यह पूछ सकता है कि क्या हम यह चोटें या जख्म पूरी तरह अपने अस्तित्व से पोंछ सकते हैं? बिना खरोंचों के निशान छोड़े? आइये ये सब हम मिलकर देखें करें! मैं यह आश्वस्त होकर कह सकता हूं कि आप, हम सभी, जरूर कभी न कभी चोट खा चुके हैं, सब अलग-अलग तरह से अलग-अलग प्रकार से। यह दुख जमी बर्फ की तरह जमा हुआ है। इसे हम जीवन भर ढोते रहते हैं। इसका प्रभाव यह होता है कि हम अधिकाधिक अकेले होने लगते हैं, दुख के प्रति ही सचेत रहने लगते हैं, दुख को गंभीरता से लेने लगते हैं। हम नहीं चाहते कि हमें और दुख मिले तो हम अपनी चारों और एक दीवार खड़ी करते हैं। जैसे-जैसे यह दीवार ऊंची होती जाती है हमारा अकेलापन बढ़ता जाता है। आप सभी यह सब जानते हैं। तो कोई भी यह कह सकता है कि क्या ऐसा हो सकता है कि हम चोट न खाएँ? भविष्य की चोटों से, दुख से ही नहीं, आज के दुखों से बच सकें,, और इसी तरह अतीत के दुखों से जो किसी को बचपन में मिले उन्हें भी अपने व्यक्तित्व से पोंछ सकें, वो दुख जिन्हें हम जिन्दगी भर ढोते आए हैं।

अगर कोई वाकई गंभीर है तो उसे स्वयं इसका कारण खोजना होगा। जानना होगा कि हम दुखी क्यों होते हैं? इसका कारण क्या है? यह दुख क्या है? कौन दुखी हो रहा है और किससे?

कृपया इसे समझें, जानें। क्या यह संभव है कि कोई अपमान करे और हम उसे अपने व्यक्तित्व पर अस्तित्व पर अंकित ही न करें। कोई दुत्कारे, धौंस दिखाए उसे हम लिख कर ही न रख लें। कोई क्रोध दिखाए गाली बके, अधैर्य दिखाये तो इन सब को हम पंजीकृत ही न करें। हमें इसकी गहराई तक जाना होगा। तो क्या आप इसके लिए तैयार हैं?

हमारा मस्तिष्क एक यंत्र है गतिविधियों को अंकित करने वाला। एक कम्प्यूटर की तरह जिसमें डाटा रिकार्ड या अंकित कर जमा रखा जाता है। हमारा मस्तिश्क सारी गतिविधियों को अंकित कर लेता है क्योंकि इससे उसे सुरक्षितता मिलती है, एक तरह की आत्म सुरक्षा। ठीक? क्या आप सब यह चीजें समझ रहे हैं? तब जब कोई कहता है - तुम मूर्ख हो या अन्य कोई अपमान करता है तो हमारे मस्तिष्क की त्वरित प्रतिक्रिया होती है और वह इन सब बातों को अंकित करता जाता है। मौखिक रूप से इसका प्रभाव पड़ता है कि यदि आप दुख ही लेना चाहते हैं तो यह शब्द मस्तिष्क में अंकित हो जाएंगे, ठीक उसी तरह जैसे कोई तारीफ करे और आपका मस्तिष्क उसे एक आनन्ददाय याद की तरह अंकित कर ले। ठीक? तो क्या यह अंकित करने की प्रक्रिया किसी अंत पर आ सकती है?

मस्तिष्क का तो काम ही है सभी तरह की बातों को रजिस्टर मंे अंकित करे चले जाना। एक तरह से यह जरूरी भी है नहीं तो आप कैसे जानेंगे कि आपका घर कौन सा है, आप कार कैसे ड्राइव कर पाएंगे, या कोई भाषा कैसे बोल पांऐगे। लेकिन मनोवैज्ञानिक प्रतिक्रियाएं, अहसास अंकित न हों, क्या ऐसा हो सकता है? आप यह सब समझ रहे हैं न?

अब कोई पूछ सकता है कैसे? कैसे मैं एक अपमान या एक तारीफ, एक प्रशंसा को अंकित होने से रोक सकता हूं? प्रशंसा का अहसास तो बहुत ही सुखदायक होता है और मैं उसे एक याद की तरह संजोना भी चाहता हूं, पर दुख और अपमान इन सबको तो मैं खत्म कर देना चाहता हूं, बचना चाहता हूं।

लेकिन दोनो घटक, अपमान हो या प्रशंसा, दोनों ही अंकित किये जाते हैं। तो क्या यह संभव है कि मनोवैज्ञानिक रूप से अंकित न किए जाएं? ठीक! अब हम इसे मिलजुलकर एक होकर समझें, आगे बढ़ें।

वह क्या है जो चोटिल होता है, दुखी होता है। आप कह सकते हैं ‘‘मैं चोट खाता हूं, दुखी होता हूं’’, तो प्रश्न उठता है यह कौन सी चीज, यह कौन सा अस्तित्व है या पहचान है जो दुख अनुभव करती है? क्या यह कोई वास्तविक या यथार्थ चीज है? इसका मतलब क्या है? क्या यह कुछ ठोस चीज है, संवेदनशील चीज है, कुछ ऐसी चीज है जिसके बारे में हम आप बात कर सकें या जिसे जान सकें?

या यह कोई ऐसी चीज है जिसे आपने खुद ही अपने लिये गढ़ लिया है!! आप समझ रहे हैं न?
ठीक है, मैंने अपने खुद के बारे में एक छवि गढ़ी है, हममें में बहुत से लोग ऐसा ही करते हैं। यह छवि बचपन से ही गढ़ना शुरू हो जाती है। जैसे कि लोग कहते हैं आपको अपने भाई जैसा होना चाहिए जो कि बहुत ही चतुर और चालाक है, आपको उससे बेहतर और अच्छा होना चाहिए। यह छवि नियमित रूप से बढ़ती है, हमारी शिक्षा में, हमारे संबंधों में और इसी तरह हमारे सभी तरह के व्यवहार में। यह छवि ही ‘मैं’ बन जाती है। यह छवि है जो मैं को धारण किये हुए है, दुखी होती, या चोट खाती है। ठीक।

तो जब तक कि हमारी कोई छवि है तब तक हमेशा ये सभी लोगों द्वारा कुचली जाती है, रौंदी जाती है। इस छवि का हमसे बेहतर बुद्धिमान लोग ही नहीं, साधारण आम लोगों द्वारा भी उसका यही हश्र होता है। तो क्या यह संभव है कि हम अपनी ही एक छद्म छवि का सृजन न करें? अपने ही छवि निर्माण से बचें? आईये हम सब इस विषय में गहरे चलें। आईये साथ चलें और समझें कि यह छवि गढ़ने वाली यांत्रिकता मशीनरी क्या है?समझें कि ये कैसे होती है?

यह ‘मेरे देश’ की छवि, नेताओं की छवि, पूजारियों की छवि, भगवान की छवि - आप समझ रहें हैं न। यह सब छवियों के निर्माण का ही नतीजा हैं। यह छवियां कौन बनाता है? यह छवियाँ क्यों बनाई जाती हैं? आईये समझें कि ये छवियां किसके द्वारा और क्यों बनती हैं?

हम यह आसानी से देख समझ सकते हैं कि यह छवियां सुरक्षा, आत्म सुरक्षितता के कारणों से गढ़ी जाती हैं। क्योंकि यदि मैं एक ऐसे देश में जहां कि कम्युनिस्ट नहीं हैं वहां खुद को कम्युनिस्ट कहलवाऊं मुझे ज्यादा तकलीफों का सामना करना पड़ेगा। या एक ऐसे देश में जो कम्युनिस्टों का है, मैं अपने आपको कम्युनिस्टों से अलग कर लूं तो भी मुझे दैनिक जीवन में कठिनाईयां आएंगी।

लेकिन यदि मैं अपने आपको किसी छवि से जोड़ लेता हूं, या एक छवि के साथ जुड़ा पहचाना जाता हूं तो इससे मुझे एक अत्यंत सुरक्षित अहसास का बोध होता है। इसलिए बस इसलिए, इन्हीं कारणों से हम सब किसी न किसी रूप में छवियाँ गढ़ते या उनसे सम्बद्ध रहते हैं। किसी राजनीतिक दल से जुड़ना या धार्मिक संगठन या संप्रदाय से। किसी विचारधारा से जुड़ना या किसी समूह विषेश से। इससे छवि निर्माण या सम्बद्धता सतत जारी रहते हैं।

आप जानते हैं कि यह छवियां कौन गढ़ता है? इसकी मशीनरी क्या है? इसकी प्रक्रिया क्या है? आइये हम सब मिलजुल कर सोचे विचारें, बिना किसी अन्य कि प्रतीक्षा किये? स्वयं ही समझे बूझें।
तो यहां पर कृपया ध्यान से पढ़ें सुने--- क्या यह मशीनरी यह सारी प्रक्रिया एकसम्पूर्ण जागरूकता या अवधानपूर्णता से खत्म हो सकती है? यह यह सारी प्रक्रिया या मशीनरी तब ही सक्रिय होती है या काम करती है जब हम बेहोश से जीते हैं?
यदि मैं सम्पूर्ण रूप से जागरूक होता हूँ और आप मुझे बेवकूफ कहते हैं....आप मुझे मूर्ख कहते हैं तो यह मौखिक पत्थर मुझ पर चोट का प्रभाव करता है और एक प्रतिक्रिया पैदा होती है कि तुम भी बेवकूफ या मूर्ख हो... मैं यह शब्द ग्रहण करता हूं, इन शब्दों का अर्थ लेता हूं वह अपमान जो आप मुझे इन शब्दों के द्वारा देना या अहसास कराना चाहते है... यदि मैं तत्काल उसी समय इस सारी प्रक्रिया के प्रति जागरूक रहता हूं जब आप इन शब्दों का प्रयोग करते हैं? अगर मैं उस समय सम्पूर्ण रूप से जागरूक रहता हूं और आप इन अपमान पैदा करने वाले शब्दों का प्रयोग करते हैं तो यह जागरूकता एक ढाल की तरह नहीं या उस यांत्रिक चीज की तरह नहीं जो आप दुख से बचने के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं? इस जागरूकता में, सावधानता में कोई स्वीकार करने वाला ग्रहण करने वाला नहीं होता। लेकिन जब आप मुझे मूर्ख या बेवकूफ कहें तो यदि मैं जागरूक नहीं रहता तो मस्तिष्क इसे अपमान की तरह अंकित कर लेगा। आप इसे एक प्रयोग की तरह कर के आजमा सकते हैं।
इस तरह केवल अतीत के घाव ही नहीं, अतीत की चोटें ही नहीं बल्कि इससे आपका मन मस्तिष्क और संवेदनशील होंगे, ग्रहणशील और खुले होंगे, संचलन में ज्यादा सक्षम होंगे, ज्यादा जीवंत होंगे, ज्यादा सक्रिय होंगे।

उस दीवार की ऊंचाई कितनी होगी जो आपने अपने ईर्द गिर्द खड़ी कर रखी है? क्या यह संभव है कि वह हटे, खुले आप संवेदनशील हों, ज्यादा जिंदा हों और तथ्यात्मक रूप से समझें कि इस दीवार की... इसे बनाने की कतई आवश्यकता नहीं है। संपत्ति की सुरक्षा के लिए दीवारें खड़ी की जाती हैं - ध्यान से सुनें। धन संपत्ति के इर्द गिर्द दीवारें खड़ी की जातीं हैं और आपने खुद से ही एक सम्पत्ति की तरह व्यवहार करना शुरू कर दिया है।
आप समझ रहें है कि यहां क्या कहा जा रहा है?
तो फिर से समझें - हम सब इस सब तरह की बातें क्यों करते हैं? पहले हम अपने इर्द-गिर्द दीवारें उठाते हैं और फिर उन दीवारों को गिराने की कोशिशें करते हैं और खुद को इन दीवारों को गिराने में असमर्थ पाते हैं, हम इससे बचते हैं, हम इससे दूर भागने की कोशिश करते हैं, या इसी दीवार के पीछे छिप जाते हैं। हम सब इस तरह की बातें क्यों करते हैं? हम अपने ही लिये समस्याएं क्यों गढ़ते हैं? हम क्यों निरे सहज, स्वस्थ और सरल नहीं रह सकते?

अब यह प्रश्न किया जा सकता है- एक समस्या क्या है? कोई समस्या क्या है? आपको क्या समस्या है? किसी की भी क्या समस्या है? वह जो कि कोई सुलझाने में समर्थ नहीं हो रहा हों। ठीक। आप उसको आकलन करते हैं, या एक मनोवैज्ञानिक के पास जाते हैं, या चर्च मंे जाकर स्वीकार कन्फेशन करते हैं, या स्वयं ही उसका आकलन संरचनात्मक अध्ययन करते हैं और फिर भी समस्या ज्यों कि त्यों बनी रहती है, उसके कारण बने रहते हैं। और आप प्रभावों की जाँच करते रहते हैं, प्रभावों का पर्यवेक्षण करते हैं। ठीक? और कारण की विचित्रता देखिये... कारण ही प्रभाव हो जाता है - आप समझ रहे हैं? और प्रभाव ही कारण बन जाता है। क्या यह सब अति बौद्धिक है?

तो हम सब के लिए समस्या क्या है? हमारी समस्या क्या है? और हमें समस्याए क्यों हैं? चलिये एक सामान्य सी समस्या लेते हैं - क्या ईश्वर है? मैं इसे एक तुच्छ उदाहरण के रूप में ले रहा हूं। क्योंकि हम कहते हैं ‘‘यदि ईश्वर है तो उसने इस विशाल दैत्याकार विश्वका निर्माण कैसे किया? ठीक। तो यह सब अधिक से अधिक और अधिक समस्याएं उत्पन्न करता है। सर्वप्रथम तो हम मान लेते हैं कि यह ईश्वर ने बनाया है, यह संसार और उसके बाद हम उसमें शामिल हो जाते हैं। या मैं एक विशेष संकल्पना रखता हूं, और उस संकल्पना या आदर्श के अनुसार जीना चाहता हूं इसलिए यह एक समस्या बन जाती है। मुझे बिल्कुल नहीं दिखता या बिल्कुल समझ नहीं आता कि हम सब को क्यों एक आदर्श के अनुसार होना चाहिए? सर्वप्रथम तो हम एक आदर्श बनाते हैं, फिर उस आदर्श के अनुसार जीने की कोशिश करते हैं जो समस्याएं पैदा होने की जड़ बन जाता है। मैं अच्छा नहीं हूं, .. मुझे अच्छा होना चाहिए तो बताइये कि मुझे क्या करना होगा यह सब प्राप्त करने के लिए आदि आदि। तो देखिये हम कैसे समस्या बनाते हैं, सर्वप्रथम कुछ काल्पनिक छाया सा गढ़ते हैं, जैसे अहिंसा एक काल्पनिक अप्रकट चीज है। तथ्य हिंसा है। हिंसा तथ्य है, और तब मेरी समस्या पैदा हो जाती है। कि कैसे मुझे अहिंसक बनना है? आप समझ रहे हैं न। अगर मैं हिंसक हूं तो मुझे उससे निपटने देना चाहिए न कि अहिंसक बनने से।

तो एक स्तर पर यह सब है जो हम कर रहे हैं? या यह कि मैं अपनी पत्नी के साथ नहीं निभा पा रहा। मैं इस सब के बारे में नर्वस रहता हूं। मैं किसी या अन्य के साथ नहीं चल पाता। इन सब में आप देखिये कि मैं क्या कहना चाह रहा हूं? हम सब कुछ मंे और सब जगह समस्याएं पैदा कर लेते या गढ़ लेते हैं। तो प्रश्न है, समस्या न होने से ज्यादा महत्वपूर्ण समस्या को सुलझाना हो गया है? अगर कोई समस्या नहीं होगी तो आपका मन मस्तिश्क यह, वह या अन्य समस्याओं को सुलझाने के अनन्त संघर्षों से बच जाएंगे। सभी समस्याओं की जड़, यह मूल समस्या क्या है? तकनीकी, गणितीय समस्याओं की नहीं, मनुष्य की मानवीय, आंतरिक मनोवैज्ञानिक समस्याओं में - इनकी जड़ क्या है? महानुभावो कृपया आईये और खोजिये। क्या इसका मूल कुछ ऐसा है कि उखाड़ फेंका जा सके, या उसे सुखा कर नष्ट किया जा सके, जिससे दिल दिमाग मंे कोई समस्या न रहे?
समस्या क्या है? कुछ जो वर्तमान में सम्मिश्रित है या भविष्य में है। ठीक? एक समस्या केवल समय में रहती है, समय में निहित होती है।

एक समस्या तब तक ही रहती है जब कि हम समय की भाषा मंे सोचते हैं। न केवल भौतिक या वैज्ञानिक समय में बल्कि मनोवैज्ञानिक, मानसिक समय में भी। जब तक हम मनौवैज्ञानिकता में समय की प्रकृति नहीं समझते, हम हमेशा समस्याओं में रहेंगे। हम सब एक साथ इन समस्याओं के पैदा होने, इनके अस्तित्व के बारे में एक साथ बैठकर बात कर रहे हैं, खोजबीन कर रहे हैं।
होता यह है कि हम दुनियादारी में सफल होना चाहते हैं साथ ही साथ आध्यात्मिक मामलात में भी सफल होना चाहते हैं।
ये दोनों बातें समान हैं। यह सफल होने की आकांक्षा समय में होने वाली गतिविधि है। तो हम कह रहे हैं, वह क्या जड़ या मूल है जो समस्याएं पैदा करता है निरंतर समस्याएं, समस्याएं, समस्याएं।

क्या यह विचार है? या यहाँ एक केन्द्र है जो अपनी परिधि में ही गति करता है? क्या समस्याएं तब तक ही नहीं रहती जब मैं खुद के, स्वयं के बारे में ही चिंतित होता हँू? जब तक मैं भला होने की कोशिश करता हूं, यह और वह और जाने क्या क्या चाहता हूं? मैं ही समस्याएं पैदा करूंगा। जिसका मतलब है क्या मैं अपनी एक भी छवि बनाये बिना जिन्दगी जी सकता हूँ?

जब तक मैं अपने सफल होने की छवि, या मुझे बुद्धत्व प्राप्त करना ही है इसकी छवि, या मुझे ईश्वर का साक्षात्कार करना है इसकी छवि, या मुझे भला बनना है, मुझे और प्रेमी की तरह का व्यक्ति बनना है, मुझे महत्वाकांक्षी नहीं बनना है, मुझे किसी को दुख नहीं पहुंचाना है, मुझे शांतिपूर्वक जीना है, मुझे एक मौन मन होना है, मुझे अनिवार्य रूप से जानना है कि ध्यान क्या है..... आदि आदि अपनी ही छवियां बनाते हैं। क्या यह संभव है कि हम मुक्त हो कर जीते रह सकें? जब तक किसी भी प्रकार का केन्द्र है तब तक समस्याएं रहेंगी ही। अब यह समझें, क्या केन्द्र का होना अजागरूक या बेहोश होने का नतीजा या निचोड़ है? अगर जागरूकता होगी तो निश्चित ही कोई केन्द्र नहीं होगा।
Share/Bookmark