23 Nov 2009

जो भी समस्या है तुरन्त नि‍पटायें



क्या आपने कभी गौर किया है, यदि आपको कभी कोई समस्या हो और आप दिन भर उसके बारे में सोचते रहे हों, जो रात भर भी जारी रहा हो, उसके बारे में चिंता करना और फिर आप दूसरे दिन भी सोचते सोचते से थके हुए उठें, फिर दिन भर उसके बारे में चिंता करें वैसे ही जैसे एक कुत्ता सारा दिन हड्डी को चबाता रहता है, और फिर तीसरे दिन भी आप जब रात को बिस्तर पर जायें तब भी वह समस्या लेकर जायें ...ये सब तब तक चले जब तक आपका दिमाग चुक नहीं जाता और तब शायद इस चुक जाने.... दिमाग का काम कर देना बंद कर देने पर आप कुछ नया और तरो ताजा पाते हैं। तो हम जो कह रहे हैं वह आत्यंतिक रूप से भिन्न है जो ये है कि- जैसे ही समस्या सिर उठाती दिखे उसे तुरन्त त्वरित रूप से खत्म कर दिया जाये, उसे सारा दिन घसीटा ना जाये, यहां तक उसे अगले मिनट पर भी न टाला जाये, और खत्म कर दिया जाये।
कोई आपका अपमान कर देता है, आपके दिल को चोट पहुंचाता है, उस बात को वहीं देख सुन कर खत्म कर दें ना। कोई आपको धोखा दे, आपके बारे में भला बुरा कहे, उसे देखें सुने, पर घटना को अपने पर लाद ही ना ले, उसे बोझ की तरह न झेलें, जो भी समस्या है तुरन्त नि‍पटा दें ना। उसे उसी वक्त खत्म कर दें जब वह कहा सुना जा रहा हो, घटित हो रहा हो, न कि उसके बाद कभी....।

Share/Bookmark